Wednesday, July 13, 2016

Kashmir Delight

Life always get you a chance to get rid of your own nightmare...

Monday, April 14, 2014

Mumbai Delight : Fun Time Unlimited

Hi, Myself Azim Uddin and I am an Internet Marketing strategist & social media consultant. I started blogging to share guides, news & how-to's to help people the simplest possible way without any technical jargon's. Making Sure you'd feel welcomed irrespective of what you know about web. Enjoy :)

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Azim Uddin Umar SEO Webmaster

Friday, November 1, 2013

Do Not Pray For An Easy Life

SEO Services India

Tuesday, October 29, 2013

Are you Remembered Your Childhood?

क्या आपको बचपन के वो लम्हे याद हैं जब...............


  जब हम अपने शर्ट में हाथ छुपाते थे और लोगों से कहते फिरते थे देखो मैंने अपने हाथ जादू से हाथ गायब कर दिए |

  जब हमें जब जब लगता की हम विडियोगेम में हारने वाले हैं हम गेम री-स्टार्ट कर देते थे |

  जब हमारे पास चार रंगों से लिखने वाली एक पेन हुआ करती थी और हम सभी के बटन को एक साथ दबाने की कोशिश किया करते थे |

  जब हम दरवाज़े के पीछे छुपते थे ताकि अगर कोई आये तो उसे डरा सके लेकिन कभी कभी वहां से चल भी देते थे क्यूंकि सामने से आने वाला बंदा बड़ी देर कर रहा होता था |
Azim Uddin SEO Services

  जब आँख बंद कर सोने का नाटक करते थे ताकि कोई हमें गोद में उठा के बिस्तर तक पहुचा दे |

  सोचा करते थे की ये चाँद हमारी साइकिल के पीछे पीछे क्यों चल रहा हैं |

  On/Off वाले स्विच को बीच में अटकाने की कोशिश किया करते थे |

  पानी की 2 बूंदों को खिड़की से बहा के उनके बीच रेस लगवाया करते थे |

  सिर्फ एक ही चीज़ का दिलोजान से ख्याल रखते थे - हमारी स्कूल बैग
  फल के बीज को इस डर से नहीं खाते थे की कहीं हमारे पेट में पेड़ न उग जाए |

  बर्थडे सिर्फ इसलिए मनाते थे ताकि ढेर सारे गिफ्ट मिले |

  फ्रिज को धीरे से बंद करके ये जानने की कोशिश करते थे की इसकी लाइट कब बंद होती हैं |

  रूम में आते थे पर किसलिए आये वो भूल जाते फिर बाहर जाके याद करने की कोशिश करते |

===========================================

सच , बचपन में सोचते हम बड़े क्यों नहीं हो रहे और अब सोचते हम बड़े क्यों हो गए...???
Original Content By Mohd Nazeem

Visitor With Flag

Azim Uddin - SEO Services